Thursday, 10 January 2019

सॉफ्टवेयर इंजिनियर (Software Engineer) कैसे बने ? salary of software engineer in india

आज कल हर कोई चाहता है एक अच्छी सी डिग्री लेकर एक अच्छी से जॉब करना .technology की बढती रफ़्तार देखते हुए लोगो का इंटरेस्ट कंप्यूटर और टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में दिन ब दिन बढ़ रहा है .और हर कोई चाहता है की वो अपना करियर कंप्यूटर  के क्षेत्र में बढ़ाये क्युकी आजकल टेक्नोलॉजी का उपयोग जैसे की मोबाइल ..लैपटॉप का उपयोग बच्चे से लेकर बूढ़े भी करते है तो जाहिर सी बात है की टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में सुनहरा करियर है .और अगर टेक्नोलॉजी के इतने users है तो  नयी नयी टेक्नोलॉजी को डेवेलोप करने वाला भी कोई होना चाहिए .इसी क्षेत्र में आज आपको बताने वाला हु की सॉफ्टवेयर इंजिनियर कैसे बने (How to become software engineer in hindi ) .दोस्तों सॉफ्टवेर इंजिनियर बनने के लिए आपको कड़ी मेहनत करने की आवश्कता है .लेकिन आज मई आपको सॉफ्टवेर डेवलपर कैसे बने के बारे में सारी जानकारी  देने वाला हु .की सॉफ्टवेयर इंजिनियर बंनने के लिए कौन सी पढाई करनी चाहिए .और कौन कौन सी स्किल अपने अन्दर बढाकर हम सॉफ्टवेयर इंजिनियर कैसे बने .तो चलिए शुरु करते है.





सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग क्या है ? सॉफ्टवेयर इंजिनियर कैसे बने (How to become software engineer in hindi)


आप अपने डेली लाइफ में कंप्यूटर ,मोबाइल,और लैपटॉप ......तो उसे करते ही होगे .कंप्यूटर और मोबाइल,लैपटॉप में एक सॉफ्टवेर होता है .बिना सॉफ्टवेयर  के मोबाइल डिब्बे के सामान है .कंप्यूटर आप उसे कर रहे है तो आपने विंडोज 7.विंडोज 10 .......आदि का नाम तो सुना ही होगा .ये भी एक प्रकार के सॉफ्टवेयर  ही है .सॉफ्टवेयर को हम आसन भासा में कहे तो सॉफ्टवेयर कंप्यूटर ,मोबाइल,लैपटॉप.....का वह भाग है जिसे हम सिर्फ महसूस कर सकते है .सॉफ्टवेर को हम स्पर्श नही कर सकते .बिना सॉफ्टवेयर  के मोबाइल बेकार है . बस इन्ही सॉफ्टवेयर को develop करने वाले प्रोफेशनल्स को ही software डेवलपर या सॉफ्टवेयर इंजिनियर कहते है .




सॉफ्टवेयर डेवलपर या सॉफ्टवेयर इंजिनियर बंनने के लिए हम जो पढाई करते है .उस पढाई को ही सॉफ्टवेर इंजीनियरिंग कहते है .सॉफ्टवेयर इंजिनियर कैसे बने ? अगर आप कंप्यूटर में इंटरेस्टेड है और कंप्यूटर टेक्नोलॉजी या सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में अपना करियर बनाना चाहते है .तो आपके लिए ये जानना बेहद जरुरी हो जाता है की सॉफ्टवेयर डेवलपर कैसे बने ?


सॉफ्टवेयर डेवलपर बंनने के लिए आपको कंप्यूटर के क्षेत्र में उच्चा शिक्षा हासिल करनी पड़ती है  .आज मै आपको सॉफ्टवेयर डेवलपर कैसे बने (How to become software engineer in hindi) के बारे में सारी जानकारी देने वाला हु .आप स्टेप वाइज पूरा पढ़ते रहिये .


सॉफ्टवेयर इंजिनियर कैसे बने (How to become software engineer in hindi)



सॉफ्टवेयर इंजिनियर बंनने के लिए आपको कौन सी पढाई करनी चाहिए .आपको क्या क्या करना चाहिए एक प्रोफेशनल सॉफ्टवेयर  इंजिनियर बंनने  के लिए.

1. कंप्यूटर के क्षेत्र में  में बैचलर डिग्री ले  

एक प्रोफेशनल सॉफ्टवेर इंजिनियर बंनने के लिए आपको इंटर के बाद एक कंप्यूटर साइंस से रिलेटेड बैचलर डिग्री लेनी पड़ेगी .कंप्यूटर साइंस के क्षेत्र में बैचलर डिग्री लेने के लिए आप B.Tech in computer science, computer science engineering(CSE),BCA(bachelor in computer application),BSC in computer science में कोई भी एक बैचलर डिग्री प्रोग्राम  अपने पसंद के हिसाब से कर सकते है .

  •    B.Tech in computer science
  •    computer science engineering(CSE)
  •    BCA(bachelor in computer application)
  •    BSC in computer science

2. प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखकर अच्छी पकड़ बनाये 

वैसे तो बैचलर डिग्री करने के समय कॉलेज में आपको ये सब प्रोग्रामिंग लंगुगे सीखी जाती ही है .लेकिन कोलेगे में उतनी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज नहीं सीखी जाती जितनी आपको एक अच्छा सॉफ्टवेरयर डेवलपर बन्ने के लिए आवश्यक है .आपको एक अच्छा सॉफ्टवेयर इंजिनियर बन्ने के लिए निम्न प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखनी चाहिए 


3. प्रोग्रामिंग लैंग्वेज skill को improve करे 


एक प्रोफेशनल सॉफ्टवेयर इंजिनियर बन्ने के लिए आपको अपने प्रोग्रामिंग skill को ज्यादा से ज्यादा बढ़ने की आवश्कता है .अपनी प्रोग्रामिंग skill को बढ़ने के लिए आप डेली प्रोग्रामिंग प्रैक्टिस कर सकते है .और github ,hackerrank ...जैसी साईट पर अपना अकाउंट बनाकर प्रोग्रामिंग comptetions में हिस्सा लेकर आप आसानी से अपनी प्रोग्रामिंग skill को बाधा सकते है लेकिन आपको डेली प्रैक्टिस करने की भी जरूरत है 



4. internship में हिस्सा ले 


अपनी बैचलर डिग्री कम्पलीट करने के बाद आप बड़ी बड़ी compnies में इन्तेर्शिप लेना न भूले.internship लेने के लिए आपको compnies  के साईट पर अप्लाई करना हगा .और अपनी इन्तेर्शिप करने के बाद आप एक अच्छे सॉफ्टवेयर डेवलपर बन चुके रहे होगे .intership लेने के लिए आप इन साईट का भी सहारा ले सकते सकते है .


5. आगे की पढाई करे 

अगर आप अपनी internship कम्पलीट करने के बाद या आपको internship नहीं मिली या आपको internship के बाद जॉब नही मिली तो आप आगे की पढाई MCA (Master in computer application) कर सकते है .ये course करने के बाद आप एक अच्छे डेवलपर बन जायेंगे और कैंपस प्लेसमेंट की मदद से आप एक अच्छी जॉब प् सकते है .

salary of software engineer in india 

आपने सॉफ्टवेर इंजिनियर बन्ने के लिए इतनी मेहनत करेंगे तो आपके ये भी जानना जरूरी है की एक अच्छा सॉफ्टवेयर इंजिनियर बन्ने के बाद हमे salary कितनी मिलेगी अर्थात salary of software engineer in india .
तो मै आपको बता दू की इस फील्ड में आपको salary सुरुआत में 20 हजार मिनिमम के आस पास पर monthe मिल सकती है .लेकिन सबसे बड़ी बात ये है की आपके एक्स्पेरिंस की हिसाब से 2-3 साल का एक्स्पेरिंस हो जाने के बाद आप लाखो रूपये महीने के कम सकते है .

सारांश : आज हमने इस पोस्ट में बात की की .सॉफ्टवेयर इंजिनियर (Software Engineer) कैसे बने ?, salary of software engineer in india ,अगर आपके पास इस पोस्ट से रिलेटेड कोई क्वेश्चन है तो प्लीज कमेंट करे .


Read Also:- 





MS Excel sheet का प्रिंटआउट कैसे निकालते है .How to print excel sheet in hindi

अगर आपने कोई एक्सेल sheet बनाके रेडी कर ली है.और अब आप सोच रहे है .की मुझे इस एक्सेल sheet का प्रिंटआउट निकलना है .लेकिन आपको बिलकुल भी जानकारी नही है की MS Excel Sheet का प्रिंटआउट कैसे निकलते है (How to print excel sheet in hindi ).तो बस इसी टॉपिक पर मै आज  बिलकुल deep में बताने वाला हु की How To Print Excel sheet in hindi . लेकिन उसके पहले कुछ बेसिक्स जान लेते है.

स्प्रेडशीट (excel sheet ) को print करने से पहले यूजर को सुनिश्चित कर लेना चाहिए की उसके पास एक working प्रिंटर अवश्य होना चाहिए जिससे की wo print निकलना चाह रहा है .और A4  साइज़ के पेपर का इन्तेजाम भी कर लेना चाहिए .इतना सब हो जाने के बाद चलिए अब सीखते है की MS Excel sheet का  प्रिंटआउट कैसे निकालते है .


https://www.wikigyani.in/2019/01/ms-excel-sheet-how-to-print-excel-sheet.html

MS Excel sheet का  प्रिंटआउट कैसे निकालते है

एक्सेल sheet का प्रिंटआउट निकलने के लिए आपको नीचे दिए गए स्टेप्स को one by one फॉलो करना है .

1. एक्सेल में पेज कैसे सेट करे (setting page in excel)

एक्सेल में page setting करने के लिए आपको page लेआउट में जाना पड़ेगा .page लेआउट में जाने के बाद इस तब में आपको पञ्च तरह के अलग अलग Tab मिलेगे .इसके एक page सेटअप ग्रुप भी आपको नज़र आ जायेगा .इस page सेटअप tab के द्वारा आप आसानी से page का सेटअप अपने हिसाब से कर सकते है .page सेटअप पे जाने के लिए आप ये तरीका अपना सकते है .

Open excel ==>>page layout ==>> page setup ==>> Click it

 2. Print Area सेट कैसे करे   (setting print area in excel)

एक्सेल में print area सेट करने के लिए निम्न तरीको को अपनाये .
  • go to page layout  ~ print area group ~ set print area 
सबसे पहले आपको एक्सेल में page layout tab में जाना है उसके बाद print area group सेलेक्ट करना है .उसके बाद आपको जिस area का आप print निकलना चाहते है उसको सेलेक्ट करना है .


अगर आप print area को सेलेक्ट कर चुके है और उसे फिर से एडिट करनाचाहते है तो आप फिर से page layout के बाद print area में जाकर क्लियर print area आप्शन chose करके .सिलेक्टेड area को क्लियर कर सकते हिया .और आप फिर से अपने अनुसार नया print area का सिलेक्शन कर सकते है .

3. एक्सेल को print करना 

अगर आप एक्सेल को print करना चाहते है अब तो आपको इस टॉपिक को फॉलो करे

  • print 
print करने के लिए सबसे पहले आपको ऑफिस बटन पर जाना है .और print सेलेक्ट करना है .

https://www.wikigyani.in/2019/01/ms-excel-sheet-how-to-print-excel-sheet.html


या आप ctrl + P के द्वारा भी print कर सकता है .
अब एक print dailog बॉक्स ओपन हो जायेगा .इस dailog बॉक्स में आपको page के layout और page की संख्या नको सेलेक्ट करना है बाद आपको ओके पर क्लिक कर देने है और अब आपकी एक्सेल sheet print होना प्रारम्भ हो जाएगी .

सारांश :- आपको अब पता चल ही गया होगा की एक्सेल sheet का print आउट कैसे निकलते है .





Tuesday, 8 January 2019

नया Laptop खरीदने से पहले इन बातो का रखे ध्यान .naya laptop buy karte samay dhyan dene yogya bate

अगर आप नया लैपटॉप खरीदने का सोच रहे है.तो आपके मन में सवाल उठता होगा की लैपटॉप लेते समय हमे कौन कौन सी बातो का ध्यान रखना चाहिए .हमे लैपटॉप में क्या क्या चेक करना चाहिए .लैपटॉप में क्या क्या होना चाहिए .लैपटॉप आप इसलिए लेना ज्यादा पसंद करते है की लैपटॉप को कही ले जाने में कोई परेशानी नही होती .और electricity की कोई टेंशन नही होती .बस आप लैपटॉप को 2 घंटे चार्ज कर लीजिये और कही भी ले जा सकते है .इन सभी बातो को ध्यान में रखते हुए  .आपको लैपटॉप लेते समय सारी स्पेसिफिकेशन चेक करनी होती है आपकी जरुरत के हिसाब से .की हमे लैपटॉप का उपयोग कहा कहा करना है .उसी हिसाब से आपको लैप-टॉप buy करना चाहिए तो चलिए जानते है की आपको Laptop खरीदने से पहले किन किन बातो का ध्यान रखना चाहिए .

https://www.wikigyani.in//2019/01/naya-laptop-buy-karte-samay-dhyan-dene-yogya-bate.html

लैपटॉप खरीदते समय ध्यान देने योग्य बाते 

लैपटॉप अगर आप खरीदने की सोच रहे है .तो नीचे दिए गए कंटेंट को पढ़े .नीचे लाइन by लाइन बताया गया है की लैपटॉप खरीदते समय किन किन बातो क ध्यान रखना चाहिए .

  • सबसे पहले हमें बजट सेट करना चाहिए 
लैपटॉप लेने के लिए हमे सबसे पहले अपने बजट को ध्यान में रखना चाहिए .सबसे पहले आपको  लैपटॉप buy करने के लिए कितना पैसा इन्वेस्ट करना है उसका पूरा हिसाब रख लेना   चाहिए जिससे की आपको किसी भी प्रकार से लैपटॉप buy करते समय फाइनेंसिंग प्रॉब्लम न हो .

  • दूसरी बात हमे कंपनी सेलेक्ट करना चाहिए 
अब जब आपके पास पैसे का बंदोबस्त हो गया है .उसके बाद आपको कंपनी सेलेक्ट करना चाहिए की  जिस बजट में  में आप लैपटॉप लेने की सोच रहे है .उतने में कौन कौन सी कंपनिया है .और कौन सी कंपनी सबसे अच्छी है .

  • काम और जरुरत के हिसाब से सेलेक्ट करे लैपटॉप 
अब आपको ये ध्यान में रखना है की आप किस काम के लिए लैपटॉप buy करना चाहते है .जैसे की अगर आप सिंपल वर्क के लिए लैपटॉप ले रहे है जैसे की  आपको लैपटॉप सिर्फ इन्टरनेट ,और ऑफिस वर्क के लिए लेना है तो i3 प्रोसेसर में ही काम  चल जायेगा /

  • बैटरी बैकअप क पता लगाये 
अगर आपको लैपटॉप लेना है तो सबसे जरूरी बात हो जाता है बैटरी बैकअप का .अगर लैपटॉप लेते समय आप बैटरी बैकअप का ध्यान दे देते है तो समझिये आपने सबसे अच्छा लैपटॉप buy किया है .

  • प्रोसेसर और मेमोरी के बारे में जाने 
अब सबसे जरूरी बात जानते है जो हमे एक बेस्ट लैपटॉप buy करते समय ध्यान में रखनी चाहिए wo है प्रोसेसर और मेमोरी .आपको अपने जरूरत के हिसाब से प्रोसेसर और मेमोरी का चयन करना चाहिए .अगर आप लैपटॉप हलके वर्क के लिए ले रहे है तो i3 प्रोसेसर में आपका कम चल जायेगा लेकिन अगर आप एक प्रोग्राम्मर,gamer है तो आपको i7 प्रोसेसर का लैपटॉप buy करना चाहिए .और मेमोरी भी अपने हिसाब से देख ले आपको कितना डाटा रखना है उसके हिसाब से .


इन सब बातो के अलावा भी आपको नीचे दी गयी इन बातो को ध्यान में रखना अति आवश्यक है .

1.लैपटॉप आप authorised शॉप से ही buy करे 
2.ऑनलाइन अगर आप लैपटॉप buy करना चाहते है तो trustable साईट का ही प्रयोग करे 
3.लैपटॉप buy करते समय दुकानदार से पक्की बिल लेना न भुला
4.  लैपटॉप लेते समय ही उसकी गारंटी और वारंटी के बारे में अच्छे से जानकारी ले ले 

Monday, 7 January 2019

खुद का text to speech सॉफ्टवेयर कैसे बनाये .How to make text to speech software in hindi

अक्सर आप इन्टरनेट पर देखते और सुनते  होगे text to speech सॉफ्टवेयर या वेब एप्लीकेशन के बारे में .यह एक प्रकार का सॉफ्टवेयर या  वेब एप्लीकेशन होता है जिसकी मदद से आप आसानी से टाइप कियें गए text को voice में change कर सकते है.text को voice में change  कैसे करते है.ये तो आप जानते ही होगे .लेकिन क्या आप जानते है की text to speech सॉफ्टवेयर कैसे बनाये जाते है (How to make text to speech software in hindi) या आप खुद का text to speech सॉफ्टवेयर कैसे बना सकते है .

मै इस पोस्ट में आज आपको यही बताने वाला हु की खुद का text to speech सॉफ्टवेर कैसे बनाते है .अगर आपको सॉफ्टवेर बनाने में इंटरेस्ट है तो आप हमारे ब्लॉग को विजिट करते रहिये हम डेली ऐसे ही पोस्ट पब्लिश करते रहते है -तो चलिए जानते है :-How to make text to speech software in hindi 


https://www.wikigyani.in/2019/01/how-to-make-text-to-speech-software-in-hindi.html

text to speech सॉफ्टवेयर कैसे बनाये (How to make text to speech software in hindi )

text to speech software kaise banate hai जानने के पहले हम जानते है की text to speech सॉफ्टवेयर क्या है और इसका उपयोग क्या है .



text to speech सॉफ्टवेयर क्या है  इसका उपयोग क्या है 

अक्सर आपलोग youtube पर वीडियोस देखते होगे .जिस वीडियोस में रोबोट्स की आवाज आती है उसमे एक लड़की या लड़के जैसी रोबोट की तरह आवाज लगायी गयी होती है .जोकि text to speech सॉफ्टवेयर द्वारा generate  की हुई voice रहती है.इसी text to speech सॉफ्टवेयर को आज हम आपको बनाना सिखायेंगे की कैसे आप भी अपने कंप्यूटर से आसानी से text to speech  सॉफ्टवेयर बना सकते है . 

text to speech सॉफ्टवेयर कैसे बनाते है (how to make text to speech software in hindi)

अपने कंप्यूटर में text to speech software बनाने के लिए आपको नीच दी गयी इन स्टेप्स को नंबर वाइज फॉलो करना है .

  • सबसे पहले आप अपने कंप्यूटर में नोटपैड ओपन करे :
इस सॉफ्टवेर को बनाने के लिए सबसे पहले आपको अपने कंप्यूटर में नोटपैड ओपन करना है .नोटपैड ओपन करने के लिए आपको सबसे पहले अपने कंप्यूटर के डेस्कटॉप पर जाना है उसके बाद स्टार्ट बटन पर क्लिक करना है उसके बाद आल प्रोग्राम्स पर क्लिक करना है फिर आपको एक्सेसरीज पर क्लिक करना है उसके बाद आप नोटपैड पर क्लिक करके नोटपैड ओपन कर सकते है .

Desktop = Start Button =All Programms = Accessories = Notepad 

  • उसके बाद नोटपैड में आपको नीचे इमेज में दिखाई गयी कोडिंग को टाइप करना है .
यह एक प्रकार की VBS स्क्रिप्ट है .इस स्क्रिप्ट से ही आप text को speech में कन्वर्ट कर पाएंगे .


https://www.wikigyani.in/2019/01/how-to-make-text-to-speech-software-in-hindi.html


अगर आपको कोडिंग टाइप करने में प्रॉब्लम हो रही है तो आप यहाँ से कॉपी कर सकते है .







  • उसके बाद कोडिंग को एडिट करना 
कोडिंग में जहा पर इमेज में welcome to your pc , vinay लिखा हुआ है .वह पर आप जो text voice  में change  करना चाहते है वो टाइप करिए .


  • अब आप save पर क्लिक करके या ctrl +s टाइप करके save करे 
अप आप इसे नोटपैड कोडिंग को save करे .save करने के लिए आप ctrl + s या डायरेक्ट फाइल मेनू में जाकर save कर सकते है .लेकिन save करते समय ये बात ध्यान दे जो नीचे अगली लाइन में है .


  • save करते समय .vbs extension का प्रयोग करे .
save करते समय आप नीचे इमेज के अनुसार पहले आप फाइल नाम में नाम टाइप करे जिस नाम से आप सेवे करना चाहते है .उसके बाद .त्क्स्त की जगह .vbs टाइप करे और फिर नीचे भी text फाइल की जगह आल प्रोग्राम पर क्लिक करे .



https://www.wikigyani.in/2019/01/how-to-make-text-to-speech-software-in-hindi.html



  • अब save बटन पर क्लिक करके save कर दे .

https://www.wikigyani.in/2019/01/how-to-make-text-to-speech-software-in-hindi.html



अब जहा पर आपने save किया  होगा /वह पर इस तारक एक फाइल क्रिएट हो गयी होगी .अब इसपर डबल क्लिक करके इसे रन करा सकते है .आप जो टाइप किये होगे वही वूइस में change होके voice आउटपुट होगा .


लो बन गया आपका text to speech सॉफ्टवेयर .

सारांश :- दोस्तों ये पोस्ट आपको समझ में आ गया होगा इसमें मैंने बताया की खुद का text to speech सॉफ्टवेयर कैसे बनाये ,text to speech सॉफ्टवेयर कैसे बनाते है (how to make text to speech software in hindi),text to speech सॉफ्टवेयर क्या है  इसका उपयोग क्या है .अगर आपको कुछ समझ में न आया हो या अगर कोई क्वेश्चन आपके दिमाग में कंप्यूटर टेक्नोलॉजी से रिलेटेड है तो आप प्लीज कमेंट करे .


इसे भी पढ़े :-

  1. Excel COUNT Function In Hindi,............... फोर्मुलो के बारे में विस्तृत जानकारी
  2. Excel Formula Tutorial In Hindi .एक्सेल Sum फार्मूला SERIES 
  3. Excel Basics In Hindi.जाने ...........
  4. Microsoft Excel Kya Hai.Excel Jobs ................एक्सेल सीखने के फायदे.......

इसे भी देखे  :-

Friday, 4 January 2019

BCA क्या है ?BCA course details in hindi .कैसे और कहा से करे ..

स्कूल की पढाई पूरी करने के बाद अक्सर students की mind में उथल पुथल होता है की आगे कौन सी पढाई की जाये .माता पिता सोचते है की शर्मा जी का बेटा B.Tech कर रहा है .हम अपने बच्चे को B.Tech कराएँगे .लेकिन students को ये चाहिए की उनका इंटरेस्ट किस्मे है .वो लाइफ में क्या बनना चाहते है .उसी हिसाब से कोर्स को सर्च करके उनके बारे में अच्छे से GOOGLE करके .आगे की पढाई करनी चाहिए .इसी आधार पर मै आपको BCA (Bachelor In Computer Application) के बारे में बताने वाला हु की BCA क्या है ? ये  डिग्री उन students के लिए होता है .जो स्टूडेंट कंप्यूटर में इंटरेस्ट रखते है .या कंप्यूटर  क्षेत्र में करियर बनना चाहते है .और इस पोस्ट में हम BCA Course Details In Hindi के बारे में भी बात करेंगे की bca course कैसे करे .  और BCA salary  (Salary after bca ) के  बारे में भी विस्तार से जानेंगे की आखिर BCA course करने के बाद हम कितने पैसे कम सकते है .और BCA scope क्या है bca के बाद हमे  कौन सी जॉब मिलेगी .तो चलिए इन्ही बातो को ध्यान में रखते हुए पोस्ट को सुरु करते है .


https://www.wikigyani.in/2019/01/bca-kya-hai.html

BCA क्या है .BCA course details in hindi 

BCA को हम Bachelor In Computer Application के नाम से भी जानते है .BCA क्या है ? BCA एक undergraduate डिग्री है .BCA करने के बाद आप वो सब कर सकते है .जोकी आप BA ..B.TECH करने के बाद कर सकते है .अगर आपका इंटरेस्ट कंप्यूटर में है तो आप BCA कर सकते है .BCA में हमे कंप्यूटर के बारे में पढाया जाता है . bca karne ke bad hum software engineer,freelancing,web designing,android development....aadi के क्षेत्र में जॉब कर सकते है.

BCA एक प्रकार का टेक्निकल course है .जिसमे हमे कंप्यूटर के सॉफ्टवेयर को डेवेलोप करने और कंप्यूटर से जुडी सारी छोटी बड़ी नॉलेज के बारे में बताया जाता है .कंप्यूटर के क्षेत्र में अगर आपका इंटरेस्ट है और आप अच्छे वेब डेवलपर,सॉफ्टवेर इंजिनियर बनना चाहते है तो आप bca अवश्य करे .

BCA कैसे और कहा से करे 

अगर आप bca करने जा रहे है तो सुबसे ज्यादा  जरूरी रहता है  की bca करे तो कैसे और कहा से करे .bca करने के लिए आपको बस किसी अच्छे टेक्निकल सरकारी या प्राइवेट कॉलेज में addmssion लेना होगा .

अगली बात bca करे तो कहा से करे bca करने के लिए सुबसे पहले आपको तय करना है की आपके आस पास कौन सा अच्छा कॉलेज है उस कॉलेज में जाकर आप बात करिए फीस बगेर के बारे में और आप आसानी से एडमिशन  ले सकते है .


BCA की फीस 

अगर आप bca करने जा रहे है तो सबसे आवश्यक बात होती है bca की फीस पता करना .bca की फीस सरकारी कॉलेज में एवरेज 5-6 हजार पर सेमेस्टर चुकाने पड़ते है .और अगर आप प्राइवेट कॉलेज का चुनाव करते है तो आपको 15-20 हजार रुपया तक पर सेमेस्टर चुकाना पद सकता है .

BCA की qualification 


bca करने के लिए आपकी qualification 12th पास होनी चाहिए .12th में आपके पास मैथ्स अवश्य होना चाहिए .तभी आपको एक अच्छे कॉलेज में अद्द्मिस्सिओन मिल सकता है .कुछ कॉलेज बिना मैथ्स के भी करते है .उनके बारे में आपको अवश्य गूगल करना चाहिए अगर आपके पास मैथ्स सब्जेक्ट नही है तो .


BCA की college 


bca करने के लिए मई आपको suggest करूंगा की आप अपने नजदीक के ही किसी कॉलेज का चुनाव करे .अगर आपको नजदीक में कोई कॉलेज नही है तो आप दुसरे कॉलेज का उपयोग कर सकते है .


BCA SCOPE


bca करने के बाद आपकी जॉब कौन सी लगेगी ये सबसे जरूरी हो जाता है .किसी भी डिग्री या course करने से पहले .तो मई आपको बता दू की bca करने के बाद आप वेब डेवलपमेंट,फ्रीलांसिंग,सॉफ्टवेर इंजीनियरिंग ,एंड्राइड डेवलपमेंट में अपना करियर बना सकते है .जोकि एक उचे वोह्दे के जॉब होते है इन जॉब्स में अच्छी एक्स्पीरिएंस हो जाने के बाद आप लाखो रुपया महीने के कमा  सकते है .



सारांश :-  मै आशा करता हु की ये पोस्ट आपको समझ में आया होगा .ऐसे ही हमारे साथ ऐसे पोस्ट पढ़ते रहने के लिए हमे सब्सक्राइब करे :-

इसे भी पढ़े :-

  1. Excel COUNT Function In Hindi,एक्सेल 
  2. Excel Formula Tutorial In Hindi .
  3. Excel Basics In Hindi.जाने Excel 
  4. Microsoft Excel Kya Hai.Excel Jobs 


Thursday, 3 January 2019

Average Function In Excel In Hindi.एक्सेल एवरेज फार्मूला फुल excel average formula in hindi series

एक्सेल फार्मूला इन हिंदी के इस सीरीज में हम इस पोस्ट में Average Function In Excel In Hindi के बारे में जानेंगे .एवरेज फंक्शन इन एक्सेल इन हिंदी में खाशतौर पर हम एक्सेल avarage formula सीरीज के चार फोर्मुले Average ,AverageA,AverageIF,AverageIFS के बारे में विस्तार से जानेंगे .Average का मतलब तो आप बचपन से पढ़ते आ रहे है .गणित में average का मतलब और एक्सेल में एवरेज का मतलब same है .गणित और एक्सेल में एवरेज निकलने का सिद्धांत भी एक जैसा ही है .बस दोनों में एवरेज निकलने के प्रोसेस अलग अलग है .तो चलिए Average Function In Excel In Hindi  को विस्तार से पढ़ते है ./

https://www.wikigyani.in/2019/01/average-function-in-excel-in-hindi.html

Average Function In Excel In Hindi (एवरेज फार्मूला इन हिंदी)


गणित के एवरेज के प्रश्नों में हम एवरेज निकलने के लिए आसानी से दिए हुए प्रश्न के सभी अंको को एक साथ जोड़ कर .दिए हुए अंको की संख्या से भाग कर देते थे .तो हमे उन अंको का औसत प्राप्त हो जाता था .चलिए उदहारण से समझते है .

उदहारण : - माना 6 क्रिकेट प्लेयर्स के रनों का औसत हमे प्राप्त करना है .और उनके स्कोर कुछ इस प्रकार one by one दिए हुए है : 45 , 56 ,65 ,43 ,76 ,65  अब हमे इनके औसत निकलना है .

हमे इस खिलाडियों का औसत निकलने के लिए दस इनको रनों को add करके कुल खिलाडियों  की संख्या से डिवाइड कर देना है .जैसे 

45+56+65+43+76+65 =307         307/2 = 51.16 

बस इसी प्रकार से हम एक्सेल में भी फार्मूला के माध्यम से एवरेज निकलते है .बस तरीके अलग अलग होते है .

1.Excel Average Formula (एक्सेल एवरेज फंक्शन )


एक्सेल में Excel Average Formula पुट अप करने के लियें नीचे दिए गए इमेज के अनुसार दिए गए numbers का एवरेज निकालने के लिए हमने =AVERAGE(c2:i12) फोर्मुले का यूज़  किया है /जहा पर  c2 और i2 का आशय cell से है जिस cell से लेकर जिस cell तक में नम्बरो का हमे एवरेज निकलना था उतने cell को हमने सेलेक्ट किया है . Excel Average Formula में हम चाहे जितने cell को सेलेक्ट इस फोर्मुले को लगाकर एवरेज निकल सकते है .

 https://www.wikigyani.in/2019/01/average-function-in-excel-in-hindi.html


2.Excel AVERAGEIF  Formula (एक्सेल एवरेजइफ फंक्शन )


Excel AVERAGEIF formula से भी हम same to  same एवरेज फोर्मुले की तरह ही एवरेज निकालते है.लेकिन AverageIf फोर्मुले का प्रयोग हम किसी condition को  लगाने के लिए करते है .
जैसे के नीचे दिए गए इमेज के अनुसार ram और श्याम की अलग अलग कई महीनो की सैलरी दी है .अब हमे केवल ram की total सैलरी का एवरेज निकलना है .तो हमने सिंपल से Excel AVERAGEIF formula का प्रयोग करके सोल्वे कर दिया .हमने इस फोर्मुले को कुछ इस प्रकार पुट किया है =AVERAGE(नाम वाले poore row को सेलेक्ट किया ,ram को सेलेक्ट किया ,सैलरी वाले poore वोर को सेलेक्ट किया ).


https://www.wikigyani.in/2019/01/average-function-in-excel-in-hindi.html

3.Excel AVERAGEIFS  Formula (एक्सेल एवरेजइफस फंक्शन )

Excel AVERAGEIFS formula का प्रयोग बिलकुल ऊपर दिए गए Excel AVERAGEIF FORULA की तरह किया जाता है .कंडीशन भी बिलकुल उसी तरह लगाया जाता है .लेकिन Excel AVERAGEIFS formula  में दो बार कंडीशन लगाने के लिए किया जाता है . Excel AVERAGEIF FORULA  की तरह जैसे हमने एक बार कंडीशन लगाकर एवेरागे निकला था Excel AVERAGEIFS formula  का प्रयोग उसी तरह कंडीशन को अलग अलग दो बार लगाने के लिए किया जाता है .


सारांश :-  इस पोस्ट में हमने Average Function In Excel In Hindi   के बारे में पढ़ा और एक्सेल एवरेज फार्मूला सीरीज के Average,AverageA,AverageIF,AverageIFS  आदि फोर्मुलो के बारे में भी कुछ सीखे जो की कुछ इस प्रकार थे .Excel AVERAGEIFS formula ,Excel AVERAGEIF FORULA  ,Excel Average Formula ,....

इसे भी पढ़े :- 

  1. Excel COUNT Function In Hindi,एक्सेल Count फार्मूला Series के सभी फोर्मुलो के बारे में विस्तृत जानकारी

  2. Excel Basics In Hindi.जाने Excel के बारे में सब कुछ.MS Excel In Hindi Tutorial

  3. Microsoft Excel Kya Hai.Excel Jobs .MS Excel Tutorial In Hindi.एक्सेल सीखने के फायदे.......




Wednesday, 2 January 2019

Excel COUNT Function in hindi,एक्सेल count फार्मूला series के सभी फोर्मुलो के बारे में विस्तृत जानकारी

 Excel Tutorial in hindi के सीरीज में यह हमारा 4th पोस्ट है .इसके पहले पोस्ट में हमने एक्सेल के sum सीरीज के फोर्मुले के बारे में बात की थी .इस पोस्ट में हम एक्सेल के COUNT सीरीज के फोर्मुले के बारे में बात करेंगे .एक्सेल COUNT सीरीज में हम COUNT ,COUNTA ,COUNTBLANK,COUNTIF,COUNTIFS के बारे में अच्छे से जानकारी लेंगे .


https://www.wikigyani.in/2019/01/excel-count-function-in-hijndi.html



एक्सेल काउंट फंक्शन (EXCEL COUNT FUNCTION )

एक्सेल काउंट फंक्शन के बारे में हम इस पोस्ट में जानने के साथ साथ एक्सेल के COUNT सीरीज के COUNT , COUNTA ,COUNTBLANK,COUNTIF,COUNTIFS के बारे में बात करेंगे .

1.EXCEL COUNT FUNCTION (एक्सेल काउंट फार्मूला )

EXCEL में एक्सेल काउंट फार्मूला का उपयोग उपयोग में लायी गयी cells की संख्या को काउंट करने के लिए किया जाता है .परन्तु काउंट फंक्शन उन cells को अनदेखा कर देता है जिसमे अल्फाबेट्स टाइप हुए रहते है जैसे की आप नीचे इमेज नंबर 1 में देख रहे होगे की काउंट वाले row में दुसरे नंबर वाली cell में 4 आंसर आया हुआ जब की उसमे 6 cells आना चाहिए .लेकिन काउंट फंक्शन ने अल्फाबेट वाले cells को इगनोरे कर दिया  है.


अब फोर्मुले को समझते है काउंट वाले row में लगे हुए फोर्मुले की बात करे तो सबसे पहले =COUNT टाइप किये गया है .उसके बाद ब्रैकेट लगाके cell 1 मतलब जहा से हमे ,,जिस cell से हमे कंडीशन सुरु करनी है जैसे की टेबल numbers  1  जहा पर 2 लिखा हुआ है .वहां से सेलेक्ट करना सुरु करेंगे और लास्ट cell मतलब जहा तक कंडीशन अप्लाई करनी है .जैसे की येलो कलर कोल्लौम जहा लास्ट है उस row तक हमे सेलेक्ट करना था .उसके बाद ब्रैकेट क्लोज करके इंटर प्रेस करेंगे .आंसर आपके सामने आ जायेगा.  


2 .EXCEL COUNTA FUNCTION (एक्सेल COUNTA फार्मूला )

एक्सेल में COUNTA फोर्मुले क उपयोग बिलकुल ऊपर बताये गए COUNT फोर्मुले की तरह किये जायेगा /बस COUNTA में YAHI फर्क है को COUNTA अल्फाबेट वाले cell को भी काउंट करता है जबकि COUNT  ऐसा नही करता /इमेज नंबर 1 से आप COUNTA फोर्मुले कोआसानी से समझ सकते है .


3.EXCEL COUNTBLANK  FUNCTION (एक्सेल COUNTBLANK फार्मूला )


एक्सेल में COUNTBLANK FORMULA का प्रयोग ऊपर बताये गए COUNT और COUNTA फोर्मुले कि तरह ही किया जाता है .COUNTBLANK की खाश बात  यह है की यह खाली cells को छोड़कर बाकि सभी cells को काउंट करता है .जिस cell में कुछ नहीं लिखा रहता यह उस cell को IGNORE कर देता है .जैसा की इमेज में प्रदर्शित है . 

https://www.wikigyani.in/2019/01/excel-count-function-in-hijndi.html

4 .EXCEL COUNTIF  FUNCTION (एक्सेल COUNTIF  फार्मूला )


एक्सेल के COUNT फार्मूला सीरीज में COUNTIF का प्रयोग एक कंडीशन लगाने के लिए किया जाता है .जैसा की इमेज नंबर 2 की माध्यम से मानलो ram के एब्सेंट और प्रेजेंट रहने क चार्ट प्रदर्शित है और हमे नुकालाना है की ram कितने दिन एब्सेंट है .तो हम इस फोर्मुले क उपयोग इमेज के अनुसार करते है .

5 .EXCEL COUNTIFS  FUNCTION (एक्सेल COUNTIFS  फार्मूला )

एक्सेल में COUNTIFS फंक्शन का प्रयोग बिलकुल COUNTIF की तरह किया जाता है .बस इसमें हम कंडीशन को एक से अधिक बार अप्लाई करके ANSWER को फ़िल्टर कर सकते है .



सारांश :-  आपको ये tutorial अवश्य समझ में आया होगा इसमें हमने :- EXCEL COUNT FUNCTION , EXCEL COUNTA FUNCTION, EXCEL COUNTBLANK FUNCTION, EXCEL COUNTIF  FUNCTION, EXCEL COUNTIFS  FUNCTION,के बारे में पढ़ा ,अगर आपको कोई भी डाउट हो तो आप कमेंट करके अपने डाउट को क्लियर कर सकते है .

Read Also:-


Tuesday, 1 January 2019

Excel Formula Tutorial in hindi .एक्सेल sum फार्मूला SERIES ,Excel ALL SUM formulas

excel tutorial in hindi के सीरीज में ये हमारी तीसरी पोस्ट है .हमने इसके पहले स्प्रेडशीट से रिलेटेड दो और पोस्ट पब्लिश की है .जिसमे हमने एक्सेल के बेसिक्स जानकारी के बारे में बताया है .अब इस पोस्ट से हम एक्सेल फार्मूला सीरीज को स्टार्ट कर रहे है .इस पोस्ट में हम पढेंगे की एक्सेल में फोर्मुलो का उपयोग कैसे होता है .और एक्सेल फार्मूला के बेसिक फार्मूला =SUM के बारे में पढेंगे .एक्सेल में SUM का मतलब होता है .


rEAD aLSO:-   Microsoft Excel Kya Hai.
जोड़ना या add करना .जब हमे किसी दो cells में दिए गए अंको को जोड़ना होता है .तो हम =SUM(1st cell : 2nd cell ) फोर्मुले का उपयोग करते है .अगर हमे दो cells के numbers को जोड़ना रहता है .तो हम एक cell में (जिस cell में anshwer दिखाना है )  इस फोर्मुले को टाइप करते है .इसमें 1st cell का मतलब वह cell जिसमे पहली संख्या है .और 2nd cell का मतलब जिसमे दूसरी संख्या है .या जिसमे लास्ट संख्या है .




एक्सेल में SUM से रिलेटेड टोटल 8 फोर्मुले है .जिनके बारे में हम आगे पढेंगे .जोकि है :- 

1. SUM 
2. SUMIF 
3. SUMIFS 
4. SUMPRODUCT 
5. SUMSQ 
6. SUMX2MY2 
7. SUMX2PY2
8. SUMXMY2 



इन सभी के बारे में हम आगे इसी पोस्ट में पढेंगे .इन फोर्मुलो की सीरीज को SUM फार्मूला  SERIES कहते है .


https://www.wikigyani.in/2019/01/excel-formula-tutorial-in-hindi.html

एक्सेल फोर्मुला इन हिंदी (Excel Formula in hindi)

एक्सेल फोर्मुलास इन हिंदी में हम अभी इस पोस्ट में सिर्फ SUM से रिलेटेड जितने भी formulas है उनके बारे में पढेंगे .तो चलिए Excel tutorial in hindi के इस सीरीज एक्सेल फार्मूला tutorial में एक्सेल sum फार्मूला की सुरुआत करते है .

rEAD ALSO:- Excel Basics In Hindi

1. एक्सेल sum फार्मूला (Excel SUM formula)


एक्सेल में sum का प्रयोग किसी दो cell या दो cells के बीच मौजूद सभी cells के बीच के cells में उपस्थित सभी cells के numbers को जोड़ने के लिए करते है .आईये इमेज के माध्यम से समझते है की एक्सेल में SUM फार्मूला कैसे वर्क करता है .और आप कैसे इसका उपयोग कर सकते है . नीचे दिए गए इमेज में आपको दिख रहा होगा की .जो cells येलो कलर के है उनके numbers को हमे add करके ग्रीन कलर वाले cell में शो करना था तो मैंने ग्रीन वाले cell में =sum(L6:K6) फार्मूला का उपयोग करके .आसानी से तीनो cell के numbers को add कर दिया यहाँ पर L6 और K6 का मतलब cells है मतलब cell नंबर L6 से लेकर K6 तक के cells के numbers को हमे add करना था .तो मैंने L6 : K6 टाइप किया है .


https://www.wikigyani.in/2019/01/excel-formula-tutorial-in-hindi.html

2. एक्सेल SUMIF फार्मूला (Excel SUMIF formula )

एक्सेल में SUM और SUMIF फोर्मुले का मतलब समे ही है .बस हम sum में जितने cell को सेलेक्ट करेंगे उतना ही add कर सकते है .लेकिन SUMIF में हम पुरे cells को सेलेक्ट करने एक कंडीशन दे सकते है की जो cell इस कंडीशन को फॉलो करे सिर्फ वही add हो .

चलिए इमेज के माध्यम से समझते है .जैसा की आपको ऊपर इमेज 3 नंबर में दिख रहा होगा की हमने सेलेक्ट तो पूरे cells को किया बुत हमने कंडीशन दे दिया की जो cells गूगल से मथ्च करता हो सिर्फ उसी cell के रो में जितने नम्बर हो सभी add हो जाये .हमने फार्मूला लगाया है =sumif(Q6 : Q13 , Q6 ,V6 :V13) इस फोर्मुले का मतलब पहले तो हमने sumif टाइप किया उसके बाद Q6 से लेकर Q13 तक सेलेक्ट किया है क्युकी हमे Q6 से लेकर Q13 के अन्दर गूगल पर कंडीशन लगानी थी/उसके बाद Q6 मतलब की Q6 पर जो है उसी क कंडीशन फॉलो होगा ,और add हमे  V6 :V13 के अन्दर के cells क करना है .

3. एक्सेल SUMIFS फार्मूला (Excel SUMIFS formula)

एक्सेल में SUMIFS फार्मूला का उपयोग तब किया जाता है जब की एक कंपनी के 2 अलग अलग प्रोडक्ट के सेल्स को फंड करना है .चलिए इमेज के माध्यम से समझते है .इमेज नंबर 4 में ध्यान दीजिये जिअसे गूगल कंपनी 2 प्रोडक्ट मोबाइल और सॉफ्टवेर सेल करती है तो मानलो हमे गूगल कंपनी के मोबाइल टोटल सेल pcs. पता करना है तो हम sumifs फोर्मुले का उपयोग करेंगे .जैसा की मैंने नीचे इमेज में दिख रहा होगा की ग्रीन cell में मैंने फार्मूला पुट  किया  है.फोर्मुले में total :total का मतलब total के poore रो को सेलेक्ट करना है .


https://www.wikigyani.in/2019/01/excel-formula-tutorial-in-hindi.html

4.एक्सेल SUMPRODUCT फार्मूला (Excel SUMPRODUCT formula)

एक्सेल में SUMPRODUCT फार्मूला का उपयोग तक किया जाता है जब हमे की (ऊपर 5 नंबर इमेज से ) QTy और प्राइस का मुल्तिप्ली करके total निकलना रहता है .ये तो आसान है .की हम =sum(row 1 *row2 )
 फार्मूला के द्वारा सोल्वे कर देंगे लेकिन हमे पूरी लिस्ट क एक ही बार में जब निकलना रहता है तो हम इस फोर्मुले Excel SUMPRODUCT फार्मूला क उपयोग करते है .जैसे की ऊपर इमेज में प्रदर्शित है .


5. एक्सेल SUMSQ फार्मूला (Excel SUMSQ formula )

एक्सेल में SUMSQ फोर्मुले का उपयोग .चित्र नंबर 6 के अनुसार तब करते है .मानलो हमे VALUE1 के वर्ग स्कवायर को VALUE2 के वर्ग से जोड़ना है जैसे हमे 2 के वर्ग 2*2=4 को 3 के वर्ग 3*3=9 को add करना है तो इस फोर्मुले क उपयोग चित्र अनुशार करेंगे .2*2+3*3=13 जैसे की चित्र 6 के ग्रीन कलर के फर्स्ट कोलौमं में प्रदर्शित है .

6.एक्सेल SUMX2MY2 फार्मूला (Excel SUMX2MY2 formula )

एक्सेल में SUMX2MY2 फोर्मुले क उपयोग same तो same ऊपर बताये गए SUMSQ फोर्मुले की तरह किया जाता है .बस इसमें हमे VALUE1 के वर्ग को VALUE2 के वर्ग से add करने की जगह माइनस करना है हम SUMSQ में जोड़ते थे लेकिन इसमें घटाए गे .जैसा की इमेज नंबर 7 में प्रदर्शित है .

8.एक्सेल SUMX2PY2 फार्मूला (Excel SUMX2PY2 formula )

एक्सेल में SUMX2PY2 का उपयोग बिलकुल SUMSQ फोर्मुले की  तरह होता है .SUMSQ फोर्मुले में हम VALUE को एक एक सेलेक्ट करके दोनों वर्ग को add करते थे .लेकिन इस फोर्मुले के द्वारा हम poore VALUE1 के ब्लाक को सेलेक्ट करके एक साथ एक ही cell में सबका निकलना रहता है जिअस की इमेज नंबर 8 में प्रदर्शित है .

9.एक्सेल SUMXMY2 फार्मूला (Excel SUMXMY2 formula )

एक्सेल में SUMXMY2 के प्रयोग को आईये विस्तार से समझते है .इमेज नंबर 9 के अनुसार जब हमने फोर्मुले को पुट किया तो आप देख रहे होगे की ग्रीन cell में 8 आंसर आया है ये कैसे आया आईये समझते है .
सुबसे पहले वैल्यू 1 क पहला cell (2 ) उसके बाद वैल्यू 2 का पहला cell MINUS हुआ तो 2  आंसर आया उसके बाद वैल्यू 1 का 2 cell और वैल्यू 2 का 2 cell MINUS   हुआ तो 2  आंसर आया .उसके बाद आये हुए दोनों वैल्यू के वर्ग का जोड़ ही ANSHWER आया है .जैसा की इमेज 9 में प्रदर्शित है .


CONCLUSION:- 

आशा करता हु की ये पोस्ट आपके समझ में आ गया होगा /अगर अभी भी एक्सेल के इन फोर्मुलो से रिलेटेड कोई डाउट है तो प्लीज कमेंट करिए हम आपके डाउट को क्लियर करेंगे .
IS TOPIC KO AAP VIDEO KE ROOP ME BHI DEKH SAKTE HAI:-